Tuesday, 18 December 2018

भारत देश के लोग अंग्रेज़ों से कितने अलग है, देखे इन मजेदार तस्वीरों में

भारत देश के लोग अंग्रेज़ों से कितने अलग है, देखे इन मजेदार तस्वीरों में





नमस्कार दोस्तों आप सभी का एक बार फिर से मेरे लेख में स्वागत है, तो दोस्तों जैसे की आप सभी तो जानते ही है की आजकल एक ही बहस छिड़ी रहती है की अँग्रेज़ हम से आगे निकल गए है. तो आज जो तस्वीरें में आप सभी के सामने ले कर आया हुं उन्हें देखकर आप सभी समझ जायेंगे वो इसी विषय में है. और जब आप इन तस्वीरों को देखेंगे तो समझ जायाेंगे की आखिर भारतीय लोगों में और अँग्रेज़ो में कितना अंतर है. चलिए दोस्तों तो शुरू करते है और दिखाते है आपको कुछ ऐसी ही तस्वीरें
bharat-ke-log-angrezo-se-kitne-alag-hai-dekhe-in-tasveero-me


दोस्तों पूरे भारत की बात में बाद में करता हुं, पहले अपने बारे में बताता हुं. जब में स्कूल जाता था तो उस समय में वैसे तो बड़ी बसे जाती थी पर हमारे स्कूल जाने के टाइम में केवल एक ही बस जाया करती थी. और फिर हम लोग सरकार को भी कई बार बोले की हमें ऐसे लटक कर जाना पड़ता है और बस लगाए यहाँ पर. पर सरकार हमारी बात कभी सुनती ही नहीं है और अपनी सरकारी बसे इन्होंने खड़ी की होती है और प्राइवेट बसे चली हुंई होती है
bharat-ke-log-angrezo-se-kitne-alag-hai-dekhe-in-tasveero-me

अगर आप कभी किसी ऐसी अड्रेस को ढूंढ रहे हो जिसका आपको पता हो की आखिर कहाँ पर है तो जब आप किसी से पूछते है की भाई क्या आप बता सकते है की ये जो अड्रेस है वो कहाँ पर है. तो ऐसा होता है की वो पूरा अड्रेस बताता है की पहले यहाँ जाना फिर वहां जाना और उसके बाद आगे जा कर दायी ले कर किसी से भी पूछ लेना आपको बता देगा. और जब भी किसी से अड्रेस पूछ जाता है तो ऐसा ही होता है और ऐसे ही रास्ता लोग हमें बताते है.
bharat-ke-log-angrezo-se-kitne-alag-hai-dekhe-in-tasveero-me

दोस्तों वैसे तो में ये वाली जो तस्वीर है नहीं डालने वाला था इस आर्टिकल में पर जब मैंने दिव्या का नाम पढ़ा तो मैंने सोचा की यार डाल ही देते है. तो सुनिये, मेरा एक दोस्त है तो हम दोनों साथ में कॉलेज में पढ़ते थे और उसकी गर्लफ्रेंड का नाम था दिव्या और उसके जो भी पासवर्ड हुंआ करते थे वो ऐसे ही हुंआ करते थे, उसमे दिव्या का नाम ज़रूर ही आता था. तो मैंने ये मैसेज उसे भी भेजा और आर्टिकल में भी डाल दिया
bharat-ke-log-angrezo-se-kitne-alag-hai-dekhe-in-tasveero-me

जो फैसिलिटी हमारे देश में है वो यही है, जब भी हम कहीं पर जा रहे होते है और पुलिस वाले हमें रोकने की कोशिश करते है तो ऐसा ही होता है. जैसे ही पुलिस वाला किसी को रोकता है तो सबसे पहले तो वो फोन करते है और फोन कर के किसी किसी को पुलिस वाले को कहलवा देते है की इसे छोड़ दो. दोस्तों दुबई जो आज इतनी तरक्की  कर रहा है अगर वहां पर कोई गाड़ी ओवर स्पीड से जा रही होती है तो उसे कोई नहीं रोकता है और उसके अकाउंट से अपने आप ही चलान कट जाता है और उसे मैसेज जाता है की इस कारण से आपके पैसे कटे है
bharat-ke-log-angrezo-se-kitne-alag-hai-dekhe-in-tasveero-me

दोस्तों में अपने देश की पुलिस की बुराई बिलकुल भी नहीं कर रहा हुं, मैं अपने देश की पुलिस की बड़ी इज़्ज़त करता हुं. पर दोस्तों जो सच्चाई है वो यही है हमारे देश की जो पुलिस है वो ऐसी होती है की अगर किसी का पीछा इन्हें करना पड़ जाए तो मुझे नहीं लगता है की ये थोड़े देर भी भाग पाएंगे. क्योंकि इनके पेट ही इतने बड़े बड़े हो गए होते है की में आपको बता नहीं सकता. और ऐसा होता ही रहता है आप जहाँ भी चले जाओ ऐसा ही हाल होता है. और दोस्तों बुरा मत मनाना
bharat-ke-log-angrezo-se-kitne-alag-hai-dekhe-in-tasveero-me

जब भी अब्रॉड में कोई जिम जाता है तो उसका जो कोच होता है वो उसे बहुत ही अच्छे तरीके से मोटीवेट करता है. और पूरे प्रोफेशनल तरीके से मोटीवेट कर के उसको वर्क आउट करवाता है. पर जब हम बात करे भारत की तो भारत में जो भी लड़का जिम जाता है तो वो किसी किसी लड़की के लिए ही जाता है. तो कोच को मोटीवेट भी ऐसे ही करना पड़ता है की अगर तुझे उस लड़की को पटना है तो तू एक और सेट मार नहीं तो वो नहीं पटने वाली
bharat-ke-log-angrezo-se-kitne-alag-hai-dekhe-in-tasveero-me

अभी आप कहेंगे की ये इंडिया को गलत बोल रहा है, दोस्तों मेरे साथ ये सभी हुंआ है तभी बोल रहा हुं में. एक बार में बस जा रहा था सुबह 5 बजे का टाइम था रोड बिलकुल ही खाली था. और जिस बस में मैं जा रहा था उस रोड पर आगे रेड लाइट थी और ड्राइवर ने आगे पीछे देखा और सीधा और ही बस को ले गया और रेड सिग्नल होने के बावजूद भी उसने बस को नहीं रोका. जिंदगी में कभी कभी तो ये चीज़ आपके साथ भी ज़रूर ही हुंई होगी
bharat-ke-log-angrezo-se-kitne-alag-hai-dekhe-in-tasveero-me

हमारे देश में जब भी ट्रेन आने को होती है तो ऐसे ही फाटक बंद कर दिए जाते है. और लोग जिन्हें जल्दी होती है वो नीचे से निकलने की कोशिश करते है. दोस्तों एक बार मेरे साथ हुंआ मैं और मेरे दोस्त गाड़ी ले कर जा रहे थे कहीं और रास्ते में ऐसे ही फाटक बंद था. तो हम खड़े हो गए और खड़े खड़े 15 मिनट हो गए पर फाटक खुला नहीं और ट्रेन भी सुनाई नहीं दी. तो हमने जहाँ पे फाटक बंद करने वाला बैठता है उसे उठाया और पूछा तो उसने खोला. आराम से फाटक बंद कर सो गया था और हम फंस गए थे वहां पर इतनी रात को.

No comments:

Post a Comment