Wednesday, 26 September 2018

यदि अापने भी किसी से सच्चा प्यार किया है तो उसके लिए ये सपने अापने भी जरूर देखे होंगे

नमस्कार दोस्तों आप सभी का एक बार फिर से मेरे लेख में स्वागत है, दोस्तों जब हम बड़े हो रहे होते है तो एक समय  ऐसा ज़रूर आता है जब हमारी जिंदगी में कोई न कोई आ ही जाता है और फिर जब कोई हमारी जिंदगी में आता है तो हम उसके लिए बहुत सारे सपने देखते है तो आज में जो तस्वीरें आपके सामने ले कर आया हुं वो कुछ ऐसी चीज़ को दर्शाती है और दिखाती है की हम अपने लवर के लिए क्या क्या सपने देखते है.

हम सभी का एक सपना होता है की हम अपने साथी के साथ कही दूर घूमने के लिए जाए पर कोई और न हो और बस हम दोनों ही हो और एक दूसरे में हम ऐसे खो जाए जैसे की दुनिया में और कोई है ही नहीं.

प्यार करने वाले ही समझ सकता है एक दूसरे में खो जाना क्या होता है, नहीं तो आजकल का प्यार तो आप लोगो को पता ही है शरीर तक ही सीमित रह गया है और आत्मा तक पहुँचता ही नहीं है.

हमारा दिल भी हमें क्या-क्या बोलता रहता है कभी-कभी तो हंसी भी आती है की हम भी क्या क्या सोचते रहते है. पर दोस्तों किसी ऐसी जगह पर डूबता हुंए सूरज को अपने लवर के साथ देखने में जो मज़ा है वो और कही नहीं है.

हर कोई यही चाहता है की उनका जो साथी है वो उन्हें रोमांटिक तरीके से प्रोपोज़ करे. और इस चीज़ में कितना मज़ा आता है ये तो लड़कियाँ ही जानती है और क्योंकि इसमें मज़ा लड़कियों को ही आता है.

अपनी गर्लफ़्रेंड के साथ घूमने में जितना मज़ा आता है न वो मज़ा और किसी के साथ नहीं आता है. बस दिक्कत ये होती है की पैसा थोड़ा ज्यादा ख़र्चा हो जाता है पर जैसी फीलिंग इसमें आती है वैसी कही और नहीं आती है.

एक दूसरे के ऊपर सर रख कर सोना कितना शकुन दायक होता है ये तो वही जानता है जिसने कभी ऐसा किया हो. नहीं तो आजकल तो जिंदगी इतनी व्यस्त है की फोन पर और व्हाट्सप्प पर ही बात होती है, और एक दूसरे के लिए कभी समय नहीं निकालते.

जब दो प्यार करने वाले एक दूसरे से बात करना शुरू करते है तो समय कब बीत जाता है पता ही नहीं चलता है. हम कहते है की दस मिनट बात कर लेते है फिर सो जाते है, और हमें पता ही नहीं चलता है की कब आधी रात हो गयी और सोने के लिए देर हो जाती है.

साथ में जीने का सपना तो हर कोई देखता है पर जो भी सच्चा प्यार करते है उनका ये सपना भी होता है की हम जीयेंगे तो साथ और मरेंगे तो भी साथ. अब आप इन बातों पर हंसो या फिर कुछ करो. जो असलियत है वो तो यही है. 

No comments:

Post a Comment