Wednesday, 5 September 2018

इन 10 नमूनों का दिमाग देखकर आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे, देखे मजेदार तस्वीरें

नमस्कार दोस्तों आप सभी का एक बार फिर से मेरे लेख में स्वागत है दोस्तों जैसे की आप सभी तो जानते ही है की हर दिन आप सभी के सामने कुछ न कुछ नया ले कर आता ही रहता हुं तो आज फिर से आप सभी के सामने कुछ ऐसा ही ले कर आ गया हुं. आशा करता हुं की आप लोगो को ये तस्वीरें काफी पसंद आयें. चलिए दोस्तों तो शुरू करते है.

इन्होंने अपने घर पर ये मशीन लगा रखी है ताकि जो भी पक्षी है वो इनके घर से दूर रहे, और इस मशीन को लगा कर ऐसा ही होता है पर जैसे की आप सभी तो जान ही गए है की इससे होता तो कुछ नहीं है बस दिल को ही तसल्ली होती है.

जब इन्होंने ये पत्थर दुकान से लिया तो दुकानदार ने पूछा की पत्थर पर क्या लिखना है. तो इन्होंने कहा की पत्थर पर कुछ भी नहीं लिखना है. तो देखना पत्थर वाले ने वही लिख कर भेज भी दिया.

वैसे ये मूर्ति बनायीं है और इसके ऊपर लिखा है आज़ादी पर जैसे की आप सभी भी देख ही रहे होंगे की फिर इन्होंने इसी मूर्ति को जाले के अंदर बंद कर दिया है अब आप ही बताओ भला ये कैसी आज़ादी हुंई.

वाह जी इन्होंने न्यूज़पप्पेर का वो वाला पन्ना भी संभाल कर रख लिया है प्लास्टिक के अंदर जिसमे लिखा था की प्लास्टिक बेन हो रहा है. अब आप ही बताओ देखा है अपने कभी कोई ऐसा नमूना.

अब इस कॉलेज को देखकर तो आप भी समझ ही गए होंगे की आखिर इस कॉलेज में कितनी ज्यादा प्लानिंग करवाई जाती होती इनके अपने ही कॉलेज की प्लानिंग बिगड़ी पड़ी है और ये हम लोगो को क्या प्लानिंग सिखाएंगे.

अब इस ट्रक को ही देख लो इन्होंने अपने ट्रक के ऊपर लिखा तो कुछ और ही है पर असल में जो कर रहे है वो कुछ और ही है. अब आप ही बताओ ऐसे लोगो को क्या कहा जा सकता है.

यहाँ शायद दो आदमी काम करते है, एक ने लिखा है की बुक्स उतारने के लिए लाइब्ररेरीयन से संपर्क करे तो दूसरे ने लिखा है की आपको जो भी किताब चाहिए आप खुद ही ले ले.

अब आप एक ही जैसी टी शर्ट पहन कर बोल रहे है की अलग अलग बनो तो भाई आपका ये मैसेज लोगो तक नहीं पहुंचने वाला है. क्योंकि आप खुद ही देखो फिर समझ ही जाओगे की में आखिर कहना क्या चाहता हुं.

इन्होंने एक ऐसी किताब अपने हाथ में पकड़ रखी है जिसमे लिखा ही की जिसे नींद नहीं आती या नींद ना आने की बीमारी है उससे कैसे लड़े. पर अगर आप देख रहे होंगे तो आप समझ ही गए होंगे की ये म्हास्य इस किताब को पढ़ नहीं रहे है बल्कि सो रहे है.


इस डिब्बे पर नाम लिखा है अमेरिकन फ़्रीडम का पर ये बॉक्स बनाया चीन बालो ने है अब आप ही बताओ दोस्तों इन लोगो को कैसे सुधारा जाए. अगर ये अमेरिका की आज़ादी है तो पता नहीं चीन में कैसे बन रहा है ये सभी कुछ.

No comments:

Post a Comment